'पुष्पा', 'केजीएफ', 'आरआरआर' जैसी कई और साउथ फिल्मों का बढ़ रहा है क्रेज

'पुष्पा', 'केजीएफ', 'आरआरआर' जैसी कई और साउथ फिल्मों का बढ़ रहा है क्रेज

Anupriya Verma

दक्षिण सिनेमा इंडस्ट्री की फिल्में धीरे-धीरे पैन इण्डिया फिल्में बनती जा रही हैं। पिछले दो  सालों में मैंने गौर किया है, जब से लॉक डाउन में जिंदगी कैद हुई है, लोगों ने मनोरंजन के कई माध्यमों के साथ एक्सपेरिमेंट किये हैं। मैंने खुद हिंदी फिल्मों के साथ-साथ तेलुगू, मलयालम, तमिल और कन्नड़ की कई फिल्में देख डाली हैं। आलम अब यह है कि लगातार मेरे जैसे हिंदी फिल्मों के दर्शकों को दक्षिण सिनेमा की फिल्मों का इंतजार रह रहा है। हाल ही में रिलीज हुई पुष्पा’ और उसकी मिली कामयाबी ने दक्षिण और उत्तर की खाई को बिल्कुल खत्म कर दिया है और अब दक्षिण भाषाओं की फिल्में मेट्रो से लेकर ग्रामीण हिंदी भाषी दर्शकों तक पहुंच रही है। ऐसे में मैं यहाँ आपको ऐसी पांच फिल्मों के बारे में बताने जा रही हूँ, जो दक्षिण भाषा में मूल रूप से बनी हैं। लेकिन उन्हें पूरे भारत में लोकप्रियता मिली है। मुझे साउथ की फिल्मों की बढ़ती लोकप्रियता की सबसे बड़ी वजह उनकी रूट्स और उनकी मिट्टी से जुड़ीं कहानियां हैं। साथ ही दक्षिण फिल्मों का अनोखे अंदाज़ का एक्शन भी दर्शकों को खूब पसंद आता है।  

पुष्पा : द राइज

‘पुष्पा’ में जिस तरह अल्लू अर्जुन ने किरदार निभाया है। उनके अंदाज से पूरे भारत में इस कदर लोग प्रभावित हुए हैं, जैसे किसी दौर में अमिताभ बच्चन से प्रभावित हुआ करते थे और उनके स्टाइल को कॉपी किया करते थे। ‘पुष्पा’ में अल्लू जिस अंदाज़ में कहते हैं “झुकेगा नहीं” मेरे जैसे दर्शक न सिर्फ इस पर खूब मीम बना रहे हैं, बल्कि उनके डांसिंग मूव्स को भी कॉपी कर रहे हैं। वर्तमान दौर में उनकी लोकप्रियता इस कदर है कि हर वर्ग के दर्शक उनको पसंद कर रहे हैं। लॉक डाउन के बावजूद जिस तरह से इस फिल्म ने व्यवसाय किया है, वह उल्लेखनीय है। अब इसकी दूसरी कड़ी में हिंदी दर्शकों को ध्यान में रखते हुए कई बदलाव किये जा रहे हैं। फिल्म मूल रूप से तेलुगू में है और रश्मिका मंदाना ने इसमें अहम भूमिका निभाई है। इस फिल्म की कहानी लाल चंदन की लकड़ी की स्मगलिंग व गैंगस्टर वॉर पर आधारित है।

केजीएफ

मूल रूप से कन्नड़ भाषा में बनी फिल्म ‘केजीएफ’ ने वहां के सुपरस्टार यश की लोकप्रियता को पूरे भारत में चरम पर पहुंचा दिया है। फिल्म को हिंदी भाषा में भी रिलीज किया गया था। अब इसकी दूसरी कड़ी को लाने की तैयारी की जा रही है। इस बार दिलचस्प बात यह भी है कि फिल्म में कई हिंदी सिनेमा के कलाकार हैं, जिनमें संजय दत्त और रवीना टंडन जैसे नाम शामिल हैं। एक्शन पैक्ड यह फिल्म अपने पहले भाग से भी और अधिक मजेदार नजर आने वाली है।

‘बाहुबली

‘बाहुबली’ के दोनों भागों ने पूरे भारत के दर्शकों पर अपना कमाल दिखाया। दरअसल, बाहुबली ने ही दक्षिण की फिल्मों के लिए ज्यादा बड़ा बाजार और दर्शक वर्ग तैयार किया, जिसकी वजह से अब वहां की फिल्में पसंद की जा रही हैं।  इस फिल्म से प्रभास को जो लोकप्रियता मिली, उसने उन्हें पूरे भारत का बहुत बड़ा सुपरस्टार बना दिया।

आरआरआर

एसएस राजमौली की फिल्म ‘बाहुबली’ ने काफी लोकप्रियता हासिल की है। अब वह आरआरआर’ लेकर आ रहे हैं।  इस फिल्म में रामचरण और जूनियर एनटीआर मुख्य किरदारों में हैं। इस फिल्म की कहानी स्वतंत्रता की कहानी पर आधारित है। इस एसएस राजमौली की सिर्फ लोकप्रियता को देखते हुए आलिया भट्ट और अजय देवगन जैसी हिंदी के सुपर स्टार फिल्म में गेस्ट भूमिका निभाने के लिए तैयार हुए हैं। इस फिल्म के गाने खूब पसंद किये जा रहे हैं।  इस फिल्म से भी उम्मीद की जा रही है कि यह एक मेगा हिट फिल्म होगी। फिल्म कोविड की बढ़ती संख्या की वजह से रिलीज नहीं हो पायी।

अर्जुन रेड्डी

‘कबीर सिंह’ साउथ की फिल्म ‘अर्जुन रेड्डी’ का हिंदी रीमेक थी। ‘अर्जुन रेड्डी’ में जिस तरह एक प्रेमी की भूमिका विजय देवरकोंडा ने निभाई थी और इस फिल्म को जिस तरह से लोकप्रियता मिली। फिर इसी फिल्म का ऑफिशियल रीमेक हिंदी में ‘कबीर सिंह’ बनी, जिसमें शाहिद कपूर ने बेहतरीन अभिनय किया था।

लाइगर

‘लाइगर’ से विजय देवरकोंडा बॉलीवुड की तरफ अपने कदम बढ़ा रहे हैं। उन्हें तमिल और तेलुगू फिल्म में लोकप्रियता मिली है। अब वह धर्मा प्रोडक्शन के बैनर तले बन रही फिल्म ‘लाइगर’ से अपनी फ़िल्मी करियर की शुरुआत करने जा रहे हैं।