रुपाली गांगुली के शो 'अनुपमा' के साथ-साथ, ऐसे 5 शोज हैं, जिन्होंने संजीदगी से  दर्शाया है 'पुनर्विवाह' के विषय को

रुपाली गांगुली के शो 'अनुपमा' के साथ-साथ, ऐसे 5 शोज हैं, जिन्होंने संजीदगी से दर्शाया है 'पुनर्विवाह' के विषय को

Anupriya Verma

हाल ही में रुपाली गांगुली ने अपने जन्मदिन के मौके पर मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि उन्हें जब लोग कहते हैं कि अनुपमा उन्हें एक शो नहीं, बल्कि इमोशन लगता है, तो उन्हें बहुत ख़ुशी मिलती है। तो इस शो ने यूं ही दर्शकों के जेहन में जगह नहीं बनाई है। मैं इस शो को शुरुआत से फॉलो कर रही हूँ और जिस तरह से इस शो में एक महिला और खासतौर से परिवार की बहू को, उसकी आजादी और उसके आत्मसमान का मान दिया जा रहा है, यह तस्वीर तो भारत के हर परिवार की होनी चाहिए, मैं अमूमन यह बातें अपने इंडियन टेलीविजन के बारे में सुनती हूँ कि यहाँ केवल ग्लैमर और सास-बहू वाले शोज बनते हैं, लेकिन मैं उन सबसे कहना चाहूंगी और उन सबका ध्यान कुछ ऐसे शोज पर ले जाना चाहूंगी, जिन्होंने अपने शो के माध्यम से सामाजिक मुद्दों को उठाया है। फिलहाल अनुपमा में अनुपमा की दोबारा शादी का ट्रैक चल रहा है, ऐसे में री मैरेज को लेकर एक बार फिर से चर्चा शुरू है कि क्या लड़कियों को इसके मौके मिलने चाहिए या नहीं, लेकिन ऐसे कई इंडियन शोज हैं, जो लगातार इस विषय को अपने शोज में दिखाते रहे हैं, मैं एक बार फिर से उन सारे शोज को यहाँ याद कर रही हूँ, जिन्होंने संजीदगी से बहू के पुनर्विवाह को दर्शाया है।

अनुपमा

अनुपमा, वर्तमान दौर के सबसे लोकप्रिय शोज में से एक है, इस शो में इन दिनों अनुपमा, जिसका किरदार रुपाली गांगुली निभा रही हैं, उनकी शादी अनुज कपाड़िया से होने वाली है, इस बात को लेकर शाह परिवार के कुछ सदस्य खुश भी हैं और कुछ नाखुश भी हैं, लेकिन इस शो की सबसे बड़ी खासियत यही है कि इस शो में अनुपमा की सिर्फ एक आत्म निर्भर महिला नहीं है और अपने आत्म सम्मान के लिए नहीं लड़ती है, बल्कि उसका परिवार खासतौर से बाबूजी भी उसके साथ होते हैं, यह एक प्रोग्रेसिव सोच शो में दिखाई गई है, जिससे कई परिवारों को इंस्पायर होना ही चाहिए। पति के धोखे देने के बाद और दूसरी शादी करने के बाद, एक बहू को भी उसका हक़ कैसे देना चाहिए, इस शो में खूबसूरती से दिखाया गया है।

Source : Instagram I @rupaliganguly

बालिका वधू

बालिका वधू ने तो कई मायनों में ऐसे मुद्दे उठाये हैं, लड़कियों से सम्बंधित, जिसने शानदार तरीके से लोगों पर असर किया है। इस शो में भी आनंदी का पति जगिया उसे धोखा दे देता हैं और जाकर शहर में किसी और लड़की से शादी कर लेता है, ऐसे में आनंदी के सास-ससुर उसका साथ देते हैं और उसकी दूसरी शादी करवाते हैं, इस शो में आनंदी का किरदार प्रत्युषा बनर्जी ने निभाया था, अब वह इस दुनिया में नहीं हैं।

पुनर्विवाह

पुनर्विवाह भी एक ऐसा शो है, जिसमें गुरमीत चौधरी और कृतिका सेंगर ने शो में अहम भूमिका निभाई थी, इस शो में भी रीमैरेज की कहानी को अच्छे से दिखाया गया है।  यह भी अपने दौर के एक प्रोग्रेसिव शोज में से एक शो रहा है और काफी पसंद किया गया था।

Source : Instagram I @itsmekratika

ब्याह हमारी बहू का

श्रेनु पारेख के शो ब्याह हमारी बहू का को भी काफी पसंद किया जाता रहा है, इस शो में भी एक बहू का ससुराल उसकी परेशानियों को ख़त्म करने के लिए, उसके लिए एक सही दूल्हे या लड़के की तलाश करता है।  इस शो को भी दर्शकों का खूब प्यार मिलता रहा है।

Source : Instagram I @shrenuparikhofficial

न बोले तुम न मैंने कुछ कहा

आकांक्षा सिंह इस शो में लीड किरदार में थीं, अब तो आकांक्षा ने फिल्मों का भी रुख कर लिया है। इस शो में अंजन श्रीवास्तव ने आकांक्षा के ससुर का किरदार निभाया है, आकांक्षा के पति की इस शो में मृत्यु हो जाती है और वह एक बच्चे की माँ भी है, एक लड़के को उससे प्यार हो जाता है, लेकिन आकांक्षा उससे शादी नहीं करना चाहती है, क्योंकि उसे यह गलत लगता है, लेकिन उसके ससुर उसे समझाते हैं कि ऐसा करने में कोई भी बुराई नहीं है। इस शो ने भी काफी प्रोग्रेसिव तरीके से एक महिला की जर्नी को दर्शाया है।

Source :Instagram I @aakankshasingh30

वाकई में, सिर्फ टीवी नहीं, बाबुल फिल्मों में भी  अपनी बहू की दूसरी शादी के ख्याल को दिखाया गया है और मेरा मानना है कि ऐसी कहानियां दिखाई जाती रहनी ही चाहिए, ताकि ऐसी लड़कियां जो समाज की रूढ़िवादी सोच की वजह से आगे नहीं बढ़ पाती हैं, वह आगे बढ़ने के बारे में सोचें और बेहतर तरीके से अपनी जिंदगी जी सकें, न कि बोझ की तरह।