विदिशा श्रीवास्तव ! घर के कामों का दबाव किसी पर भी न हो, फिर चाहे वह लड़का हो या लड़की

विदिशा श्रीवास्तव ! घर के कामों का दबाव किसी पर भी न हो, फिर चाहे वह लड़का हो या लड़की

Anupriya Verma

भाभीजी घर पर हैं की बेहद चार्मिंग पर्सनैलिटी रही हैं गोरी मेम यानी अनीता भाभी का किरदार, कुछ समय पहले ही नयी अनीता भाभी की एंट्री शो में हुई है और अब यह किरदार निभा रही हैं अभिनेत्री विदिशा श्रीवास्तव, विदिशा ने इससे पहले भी कई प्रोजेक्ट्स में काम किये हैं, लेकिन किस तरह उनके लिए अनीता भाभी का किरदार नए आयाम लेकर आया है, उन्होंने खुद अपनी बातचीत में शेयर किया है, पेश है उनसे हुई बातचीत के मुख्य अंश, अनीता भाभी का किरदार इससे पहले शो में सौम्या टंडन और नेहा पेंडसे ने निभाया है।

नहीं है किसी तरह का दबाव

विदिशा से पहले, दो अभिनेत्रियां सौम्या टंडन और नेहा पेंडसे ने इस किरदार को निभाया है, ऐसे में क्या विदिशा को इस बात को लेकर किसी तरह का प्रेशर है। इस पर विदिशा ने बड़े ही बिंदास अंदाज़ में इसका जवाब दिया है।

वह कहती हैं

मुझे नहीं लगता कि मुझे किसी भी तरह के प्रेशर को लेने की जरूरत है, क्योंकि हर कलाकार का अपना अंदाज़ होता है किरदारों को निभाने का। मैंने इस शो को लेकर प्रेशर इसलिए भी नहीं लिया है, क्योंकि मैंने शो देखा है, और मुझे पता है कि मैं अनीता भाभी के सांचे में फिट बैठती हूँ। मुझे ख़ुशी है कि मेरा बहुत अधिक ऑडिशन नहीं लिया गया और मुझे एक दिन में ही फाइनल कर लिया गया, यानी मेकर्स को मेरी काबिलियत पर पूरा भरोसा है।  

हाउस हस्बैंड के कांस्पेट हैं बेस्ट

भाभी जी घर पर हैं में विभूति, जो कि अनीता भाभी के पति हैं, वह हाउस हस्बैंड हैं, ऐसे में निजी जिंदगी में विदिशा को यह कांस्पेट बेहद पसंद हैं।

Source : Instagram I @vidishasrivastava

वह इस बारे में कहती हैं

मेरा मानना है कि हर इंसान को आत्म-निर्भर होना ही चाहिए, परिवार के हर सदस्य को एक दूसरे के साथ घुल-मिल कर रहना चाहिए और फिर काम करना चाहिए। इसमें लड़का या लड़की वाली बात होनी ही नहीं चाहिए। मेरा मानना है कि लड़की बाहर काम कर रही है और लड़का घर का काम करे, तो इसमें कोई भी बुराई जैसी बात नहीं है। लेकिन मेरा मानना है कि कोई भी विचार न तो लड़के पर, न ही लड़की पर थोपी जानी चाहिए। जो भी जिसकी मर्जी है, उसे वह करने दें, हाँ, लड़कियों पर जो हमेशा सवाल उठाये जाते हैं कि वे ही सारे काम करती रहें, तो वह सही नहीं है।

अब तक जर्नी रही मजेदार

विदिशा ने साउथ फिल्म इंडस्ट्री से अपने करियर की शुरुआत की थी, फिर उन्होंने और भी विभिन्न क्षेत्रों में  काम किये हैं।  वह अपनी जर्नी के बारे में विस्तार से बताती हैं।

Source : Instagram I @vidishasrivastava

वह बताती हैं

हाँ, यह सच है कि मैंने साउथ की फिल्मों से अपने करियर की शुरुआत की थी, लेकिन फिर अभिनय के बाद मैंने कॉरपोरेट जगत की तरह रुख कर लिया था। मुझे वहां अच्छी सैलेरी मिल रही थी। लेकिन ढाई साल के ब्रेक के बाद मैं इंडस्ट्री में वापस आ गयी, क्योंकि मुझे समझ आ गया कि अभिनय की दुनिया ही मेरे लिए पैशन है, इसके बाद, मैंने तय किया कि मुम्बई में ही अपना बेस बनाऊंगी और इस तरह मैंने काम ढूंढना शुरू किया, तो मुझे पहला शो ये हैं मोहब्बतें मिला। इसके बाद मैंने कभी मुड़ कर नहीं देखा।

वर्कोहॉलिक हूँ

विदिशा बताती हैं कि वह काम किये बगैर नहीं रह सकती हैं।

Source : Instagram I @vidishasrivastava

वह कहती हैं

मैंने मेरे जीवन में कोई भी गोल सेट नहीं किया है, अभिनय की दुनिया को लेकर, मैं वर्कोहॉलिक हूँ और जब भी मौक़ा मिलता है, कुछ न कुछ करती रहती हूँ। और जो भी प्रोजेक्ट सामने आते जाएंगे, मैं उन्हें करती जाऊंगी, फिर यह नहीं देखूंगी कि वह ओटीटी है या फिर कोई फिल्म।

गोरी मैम का मतलब यहाँ रंगभेद से नहीं है

विदिशा इस बात से साफ इंकार करती हैं कि शो में होरी मैम के टैग से किसी भी तरह से रंगभेद को बढ़ावा दिया जाता  है।

Source : Instagram I @vidishasrivastava

वह कहती हैं

मेरा मानना है कि यह कानपुर जैसे छोटे शहर की कहानी है, ऐसे में छोटे शहरों में बातचीत का लहजा ही ऐसे होता है, इसमें रंगभेद जैसी बात नहीं है। मेरा तो मानना है कि आपका जो स्किन कलर है, आप उसमें हमेशा सहज रहें, आपकी सीरत ही आपकी पहचान होती है, सूरत नहीं। और लड़कियां हर रूप में खूबसूरत होती हैं, क्योंकि वह अच्छी इंसान होती हैं।

वाकई में, विदिशा के लिए इस किरदार को लेकर चैलेंज तो है, क्योंकि यह एक स्थापित किरदार है, लेकिन विदिशा की बातों से जिस तरह से कॉन्फिडेंस से झलक रहा है और उनके काम को दर्शक पसंद करने लगे हैं, आने वाले समय में वह खुद को स्थापित कर लेंगी, मुझे पूरा यकीन है।